वीपीडीओ परीक्षा धांधली के मामले में आबीएस रावत सहित तीन लोग गिरफ्तार

 वीपीडीओ परीक्षा धांधली के मामले में आबीएस रावत सहित तीन लोग गिरफ्तार
bagoriya advt
WhatsApp Image 2022-07-27 at 10.18.54 AM

देहरादून: यूकेएसएसएससी की ओर वर्ष 2016 में करवाई गई वीपीडीयो परीक्षा में हुई धांधली के मामले में शनिवार को उत्तराखंड एसटीएफ ने आयोग के पूर्व अध्यक्ष आरबीएस रावत, सचिव मनोहर कन्याल व पूर्व परीक्षा नियंत्रक आरएस पोखरियाल को गिरफ्तार कर लिया है। जिसे भर्ती परीक्षा प्रकरण में अभी तक सबसे बड़ी कार्रवाई कहा जा रहा है। वहीं मामले में की गई कार्रवाई को पुष्कर धामी की ओर से भर्ती परीक्षाओं मे हुई धांधली को लेकर अपनाये कड़े रुख का नतीजा बताया जा रहा है।

बता दें, उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की ओर से 6 मार्च 2016 को राज्य के 13 जिलों के 236 परीक्षा केंद्रों पर 87196 अभ्यर्थियों के लिये ग्राम पंचायत विकास अधिकारी चयन परीक्षा आयोजित करवाई गई थी। जिसका परिणाम 30 मार्च 2016 को घोषित किया गया। जिसके बाद परीक्षा में धांधली की शिकायतों के बाद उत्तराखंड शासन की ओर से वर्ष 2017 में तत्कालीन अपर सचिव की अध्यक्षता में जां समिति गठित की गई थी। जिसके बाद जांच समिति की आख्या के आधार पर सम्यक विचारोपरांत एवं माननीय उच्च न्यायालय के निर्देशों के क्रम में उक्त परीक्षा में अनियमितताओं की पुष्टि होने के चलते परीक्षा परिणाम को निरस्त कर दिया गया था और वर्ष 2019 में सचिव कार्मिक एवं सतर्कता अनुभाग के निर्देशानुसार उक्त परीक्षा में हुई अनियमितताओं के संबंध में जांच सतर्कता अधिष्ठान सेक्टर देहरादून को प्राप्त हुई। वर्ष 2020 में सतर्कता अधिष्ठान सेक्टर देहरादून द्वारा खुली जांच में पुष्टि होने पर उक्त परीक्षा में हुई अनियमितताओं की पुष्टि होने पर सतर्कता अधिष्ठान देहरादून में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत अभियोग पंजीकृत किया गया। जिसके बाद से प्रकरण की विवेचना सतर्कता अधिष्ठान देहरादून की ओर से की जा रही थी। जिसके बाद अगस्त 2022 में सीएम की ओर से मामले की विवेचना एसटीएफ को हस्तांतरित करवाई गई। एसटीएफ की ओर से साक्ष्य संकलन व पूर्व में जांच कमेटी की ओर से ओएमआर सीट पर छेड़छाड़ न होने की पुष्टि होने के साथ ही परीक्षा संबंधित ओएमआर स्कैनिंग फाइनल रिजल्ट बनाए जाने का कार्य तत्कालीन सचिव मनोहर सिंह कन्याल के घर पर होने की बात सामने आई है। वहीं एसटीएफ की ओर से दो दर्जन से अधिक अभ्यर्थी चिन्हित कर उनके बयान एसटीएफ ने दर्ज किए हैं। वहीं विवेचना के दौरान पूर्व में तीन अभियुक्तों को एसटीएफ ने किया किया है। जिसके बाद शनिवार को एसटीएफ ने पर्याप्त साक्ष्यों के आधार पर आज आयोग के पूर्व अध्यक्ष आरबीएस रावत, सचिव मनोहर कन्याल व पूर्व परीक्षा नियंत्रक आरएस पोखरियाल को गिरफ्तार कर लिया है।

 

बोले मुख्यमंत्री——
मुख्यमंत्री धामी ने एसटीएफ की कार्रवाई की सराहना करते हुए कहा कि जाँच एजेंसिया अपना काम कर रही हैं। उत्तराखंड के युवा का हक़ मारने वाले किसी भी दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा। सरकार ये सुनिश्चित कर रही है कि भविष्य की सभी भर्ती परीक्षाएँ स्वच्छ और पारदर्शी हो। आज की कार्रवाई इस बात की मिसाल है कि भविष्य में कोई इन परीक्षाओं में गड़बड़ी करने की हिम्मत न कर सके

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
error: Content is protected !!